Thursday, August 29, 2013

एक फाराओ !

एक फराओ !
वीरों ! मजदूरों और गरीबों !
 के कंकाल के उप्पर अपना पिरामिड बनाया।
प्रजा के हक़ मार-मार कर अपना परचम लहराता रहा।

आज वो गरीबों के हक़ की अनाज ,
अम्बर और आवास के लिए विधान संहिता बना रही है।

-साहेब राम टुडू 

No comments:

Post a Comment